Latest news
दिव्यांगता प्रमाण पत्र के लिए उपायुक्त ने सभी प्रखंडों में तिथिवार शिविर लगाने का दिया निर्देश कांके एवं तमाड़ अंचल क्षेत्र में स्वास्थ्य उपकेंद्र निर्माण को लेकर दी गई स्वीकृति नाई समाज की ओर से अखंड हरि कीर्तन का आयोजन झारखंड के तीव्र विकास से विपक्ष‍ियों के पेट में दर्द हो रहा है : सीएम हेमंत सोरेन सरस्वती शिशु विद्या मंदिर बाघमारा में रविदास जयंती संपन्न उत्तर पूर्वी राज्यों के छात्रों ने उपायुक्त से जाना धनबाद का इतिहास मुख्यमंत्री पशुधन योजना पर जमशेदपुर में समीक्षात्मक बैठक जिला आपूर्ति पदाधिकारी ने 9 पीडीएस दुकानदारों पर किया कर्रवाई डीआरडीए निदेशक ने किया मनरेगा योजनाओं की समीक्षा बैठक झारखण्ड राज्य पत्रकार स्वास्थ्य बीमा योजना की अंतिम आवेदन तिथि 5 फरवरी

सरस्वती शिशु विधा मंदिर बाघमारा में अखिल भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा संपन्न

0
fastlive news

Baghmara ( Dhanbad, Jharkhand ) । सरस्वती शिशु विद्या मंदिर बाघमारा में शनिवार को अखिल भारतीय संस्कृति संस्थान कुरुक्षेत्र द्वारा संचालित अखिल भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा विद्यालय प्राचार्य संतोष कुमार झा की देखरेख में संपन्न हुई। परीक्षा में कक्षा चतुर्थ से द्वादश तक के कुल 586 छात्र छात्राओं ने भाग लिया। परीक्षा प्रश्नपत्र वस्तुनिष्ठ, बहुविकल्प प्रकार का रहा एवं परीक्षा ओएमआर सीट पर लिया गया।

विदित हो कि विद्या भारती अखिल भारतीय शिक्षा संस्थान की ओर से भारत देश के धर्म, संस्कृति एवं महापुरुषों के बारे में जानकारी देने और सामान्य ज्ञान को बढ़ाने के उद्देश्य से संस्कृति ज्ञान परीक्षा का आयोजन किया जाता है।

प्रधानाचार्य ने बताया कि वर्तमान समय में हमें अपनी प्राचीन भारतीय संस्कृति को ध्यान में रखकर उसका संरक्षण करना चाहिए। इसी उद्देश्य को ध्यान में रखते हुए विद्यालय में अलग अलग स्तरों पर अभिभावक एवं छात्रों की भी संस्कृति ज्ञान परीक्षा का आयोजन किया जाता है। जिससे भारत की गौरवशाली संस्कृति को संरक्षित करते हुए उसका प्रसार किया जा सके।

आचार्य कृष्ण कुमार पाण्डेय ने बताया कि विद्या भारती से सम्बद्ध विद्यालयों के साथ राजकीय एवं अन्य विद्यालयों के छात्र भी इस परीक्षा में सम्मिलित हो रहे हैं तथा यह मांग प्रतिवर्ष बढ़ती जा रही है। वही विधालय सहायक सत्यजीत ने बताया कि विद्या भारती संस्कृति शिक्षा संस्थान द्वारा संस्कृति बोध माला का प्रकाशन किया गया है। इस पुस्तक माला के स्वाध्याय के आधार पर अखिल भारतीय स्तर पर संस्कृति ज्ञान परीक्षा का आयोजन किया जाता है। साथ ही किशोर आयु के छात्र छात्राओं को निकट भविष्य में अनेक प्रतियोगी परीक्षाओं में सम्मिलित होने का अभ्यास हो सकें।

Share.

About Author

Leave A Reply

Translate »
error: Content is protected !!