Latest news
दिव्यांगता प्रमाण पत्र के लिए उपायुक्त ने सभी प्रखंडों में तिथिवार शिविर लगाने का दिया निर्देश कांके एवं तमाड़ अंचल क्षेत्र में स्वास्थ्य उपकेंद्र निर्माण को लेकर दी गई स्वीकृति नाई समाज की ओर से अखंड हरि कीर्तन का आयोजन झारखंड के तीव्र विकास से विपक्ष‍ियों के पेट में दर्द हो रहा है : सीएम हेमंत सोरेन सरस्वती शिशु विद्या मंदिर बाघमारा में रविदास जयंती संपन्न उत्तर पूर्वी राज्यों के छात्रों ने उपायुक्त से जाना धनबाद का इतिहास मुख्यमंत्री पशुधन योजना पर जमशेदपुर में समीक्षात्मक बैठक जिला आपूर्ति पदाधिकारी ने 9 पीडीएस दुकानदारों पर किया कर्रवाई डीआरडीए निदेशक ने किया मनरेगा योजनाओं की समीक्षा बैठक झारखण्ड राज्य पत्रकार स्वास्थ्य बीमा योजना की अंतिम आवेदन तिथि 5 फरवरी

भारतीय कोयला खनन उद्योग में भारत कोकिंग कोल लिमिटेड का एक महत्वपूर्ण स्थान रहा है: राज्यपाल बेस

0
fastlive news

Dhanbad: इंडियन माइन मैनेजर्स एसोसिएशन की स्थापना के 100 वर्ष और भारत कोकिंग कोल लिमिटेड (बीसीसीएल) की स्थापना के 50 वर्ष पूर्ण होने पर कोयला नगर स्थित सामुदायिक भवन में ‘खनन उद्योग: चुनौतियां और अवसर’ विषय पर आयोजित संगोष्ठी कार्यक्रम पर एक समारोह का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में मुख्य रूप से उपस्थित माननीय राज्यपाल श्री रमेश बैस ने इंडियन माइन मैनेजर्स एसोसिएशन को स्थापना के 100 वर्ष और बीसीसीएल को 50 वर्ष पूरे करने पर बधाई व शुभकामनाएँ दी। उन्होंने कहा कि इंडियन माइन मैनेजर्स एसोसिएशन देश में खनन उद्योग की वृद्धि और विकास को बढ़ावा देने में अग्रणी रहा है। संगठन ने भारत में खनन उद्योग को प्रभावित करने वाली नीतियों को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।
आगे उन्होने कहा कि विगत 50 वर्षों से भारतीय कोयला खनन उद्योग में भारत कोकिंग कोल लिमिटेड का एक महत्वपूर्ण स्थान रहा है और यह कंपनी देश के विकास में निरंतर योगदान दे रहा है। उन्होंने कहा खनन उद्योग का झारखण्ड राज्य की अर्थव्यवस्था में बहुत महत्वपूर्ण योगदान है। धनबाद कोयला खनन के क्षेत्र में पूरे देश में प्रसिद्ध है। इसे देश की कोयला राजधानी भी कहा जाता है। यहां पर कोयले की अनेक खदानों में विभिन्न प्रकार के खनिज पाए जाते हैं। खनन उद्योग अर्थव्यवस्था का एक अनिवार्य भाग है। राज्यपाल ने कहा कि श्रद्धेय अटल बिहारी वाजपेयी जी की नेतृत्व वाली सरकार में मुझे खान मंत्री के रूप में काम करने का मौका मिला। मैंने देश की विभिन्न खानों में जाकर वहाँ की स्थिति का बारीकी से अवलोकन किया ।माननीय राज्यपाल ने कहा खनन गतिविधियों का पर्यावरण पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है, पर्यावरण को इसका सबसे ज्यादा दुष्प्रभाव झेलना पड़ता है, जिसमें वनों की कटाई, जल तथा वायु प्रदूषण शामिल हैं। इन प्रभावों को कम करने और पर्यावरण को ध्यान में रखते हुए खनन कंपनियों को नई तकनीकों पर ध्यान देना होगा। आगे उन्होंने कहा खनन कंपनियों को सामाजिक दायित्वों के तहत शिक्षा और कौशल विकास के क्षेत्र में भी ध्यान देने की जरूरत है। शिक्षा और प्रशिक्षण कार्यक्रमों में निवेश करके हम यह सुनिश्चित कर सकते हैं कि आने वाले वर्षों में राज्य और देश के पास कुशल और सक्षम कार्यबल हो। सही नीतियों, निवेश और कुशल कार्यबल के साथ प्राकृतिक संसाधनों की पूरी क्षमता से उपयोग कर अपने देश के लिए स्थायी आर्थिक विकास में भागीदार हो सकते हैं। वहीं समारोह से पूर्व माननीय राज्यपाल को सर्किट हाउस में गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया। समारोह के बाद वापस रांची लौटने से पहले भी गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया।

बीसीसीएल के सामुदायिक भवन में आयोजित कार्यक्रम में माननीय सांसद धनबाद पशुपतिनाथ सिंह, बीसीसीएल के सीएमडी समिरन दत्ता, आइएमएमए अध्यक्ष केएन सिंह, सिंफर के निर्देशक श्री एके मिश्रा, इसके आलावा उपायुक्त श्री संदीप सिंह, एसएसपी श्री संजीव कुमार, उप विकास आयुक्त श्री शशि प्रकाश सिंह, ग्रामीण एसपी श्रीमती रेष्मा रमेशन, अपर समाहर्ता श्री नंदकिशोर गुप्ता, अनुमंडल पदाधिकारी श्री प्रेम कुमार तिवारी, डीएसपी मुख्यालय – 1 श्री अमर कुमार पांडेय, डीसीएलआर श्री सतीश चंद्रा, डीटीओ श्री राजेश कुमार सिंह, ट्राफिक डीएसपी श्री राजेश कुमार सहित तमाम पुलिस व प्रशासनिक पदाधिकारी मौजूद थे।

Share.

About Author

Leave A Reply

Translate »
error: Content is protected !!