फाइलेरिया उन्मूलन को लेकर जिला अधिकारी ने की बैठक

0
fastlive news

Dhanbad : फाइलेरिया उन्मूलन को लेकर मास ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन कार्यक्रम के तहत 10 फरवरी को जिले के 2231 बूथ पर 4306 स्वयंसेवक द्वारा 26 लाख से अधिक लोगों को दवा खिलाने का लक्ष्य निर्धारित है। बताया जाता है कि अभियान को सफल बनाने के लिए 332 सुपरवाइजर भी क्रियाशील रहेंगे। इस कार्यक्रम के तहत 10 फरवरी को छूटे हुए लोगों को 11 से 25 फरवरी तक दवा प्रशासक द्वारा घर-घर जाकर लोगों को अपने सामने डीईसी एवं एल्बेंडाजोल की खुराक खिलाई जाएगी। अभियान के सफल क्रियान्वयन को लेकर जिला ग्रामीण विकास अभिकरण (डीआरडीए) के सभागार में उप विकास आयुक्त श्री शशि प्रकाश सिंह की अध्यक्षता में एक बैठक आयोजित की गई। इस अवसर पर सिविल सर्जन डॉ आलोक विश्वकर्मा ने कहा कि फाइलेरिया एक वेक्टर जनित लाइलाज तथा दूसरी सबसे बड़ी दिव्यांगता पैदा करने वाली बीमारी है। यह गंदे पानी में पनपने वाले संक्रमित मादा क्युलेक्स मच्छर के द्वारा काटने से फैलती है। यह जानलेवा बीमारी नहीं है लेकिन इसकी वजह से शरीर में विकृति पैदा होती है। इसलिए इस रोग के बचाव के लिए एमडीएम कार्यक्रम के दौरान सभी व्यक्तियों को दवा का सेवन करना आवश्यक है।
:: इस तरह खिलाईजाएगी दवा की खुराक

1 से 2 साल तक के बच्चे को एल्बेंडाजोल की आधी गोली (200 एमजी) पानी में घोलकर। 2 से 5 वर्ष तक को डीईसी की एक गोली (100 एमजी), एल्बेंडाजोल की एक गोली (400 एमजी), 6 वर्ष से 14 वर्ष तक डीईसी की 2 गोली (200 एमजी), एल्बेंडाजोल की एक गोली, 15 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को डीईसी की तीन गोली 300 (एमजी) 6 एल्बेंडाजोल की एक गोली।
:: इन्हें नहीं दी जाएगी दवा
एक वर्ष से कम उम्र के बच्चों, गर्भवती महिलाओं एवं अत्यंत वृद्ध एवं गंभीर बीमार व्यक्तियों को दवा की खुराक नहीं दी जाएगी।

बैठक में उप विकास आयुक्त श्री शशि प्रकाश सिंह, सिविल सर्जन डॉ आलोक विश्वकर्मा, अनुमंडल पदाधिकारी श्री प्रेम कुमार तिवारी, जिला समाज कल्याण पदाधिकारी श्रीमती स्नेह कश्यप, वीबीडी श्री रमेश कुमार, वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन के एसएमओ डॉ अमित तिवारी सहित सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी, सभी एमओआईसी, सभी सीडीपीओ व अन्य लोग मौजूद

Share.

About Author

Leave A Reply

Translate »
error: Content is protected !!