Latest news
दिव्यांगता प्रमाण पत्र के लिए उपायुक्त ने सभी प्रखंडों में तिथिवार शिविर लगाने का दिया निर्देश कांके एवं तमाड़ अंचल क्षेत्र में स्वास्थ्य उपकेंद्र निर्माण को लेकर दी गई स्वीकृति नाई समाज की ओर से अखंड हरि कीर्तन का आयोजन झारखंड के तीव्र विकास से विपक्ष‍ियों के पेट में दर्द हो रहा है : सीएम हेमंत सोरेन सरस्वती शिशु विद्या मंदिर बाघमारा में रविदास जयंती संपन्न उत्तर पूर्वी राज्यों के छात्रों ने उपायुक्त से जाना धनबाद का इतिहास मुख्यमंत्री पशुधन योजना पर जमशेदपुर में समीक्षात्मक बैठक जिला आपूर्ति पदाधिकारी ने 9 पीडीएस दुकानदारों पर किया कर्रवाई डीआरडीए निदेशक ने किया मनरेगा योजनाओं की समीक्षा बैठक झारखण्ड राज्य पत्रकार स्वास्थ्य बीमा योजना की अंतिम आवेदन तिथि 5 फरवरी

झारखंड का तीसरा जैविक उत्पादन विपणन केन्द्र का उद्घाटन

0
fastlive news

East sinhbhum : बिष्टुपुर स्थित उद्यान नर्सरी में राज्य का तीसरा जैविक उत्पादन विपणन केन्द्र का उद्घाटन किया गया ।
जैविक उत्पादन विपणन केन्द को जीतवाहन फामर्स प्रोड्यूस कम्पनी लिमिटेड, पूर्वी सिंहभूम के द्वारा संचालित किया जायेगा । अतिथि ने कहा कि इस संस्था से लगभग 800 कृषक सीधे तौर से जुड़े है, तथा प्रथम फेज में इनके द्वारा सप्लाई-चेन के माध्यम से राज्य में जैविक विधि से खेती कर रहे लगभग 5000 किसानों से जैविक उत्पाद प्राप्त करने का लक्ष्य है। अगले फेज में और अधिक किसानों का जोड़ा जाएगा। आगे उन्होने कहा कि इस विपणन केन्द्र से उपभोक्ताओं को विषमुक्त खाद्य पदार्थ सुलभ हो सकेगा एवं पौष्टिक खाद्य पदार्थ के साथ साथ कृषकों को उनके जैविक उत्पाद का उचित मूल्य प्राप्त हो सकेगा। यह विपणन केन्द्र कृषकों की आय को बढ़ाने में सहायक सिद्व होगा।मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी, ओफाज ने बताया कि कृषि कार्य में रसायनों के बढ़ते इस्तेमाल से जहां भूगर्भीय जल स्त्रोतों एवं प्रवाही जल स्त्रोंतों में रसायनिक प्रदूषक फैल रहा है वहीं दूसरी ओर विषैले रसायन युक्त खाद्यान्न से कष्ट साध्य एवं आसाध्य रोगों के मामले बढ़ रहें है। उन्होने बताया कि झारखण्ड में जैविक खेती को बढ़ावा देने के उद्देश्य से केन्द्र प्रायोजित परम्परागत कृषि विकास योजना एवं राज्य योजना अन्तर्गत विभिन्न तरह की योजनाएं संचालित की जा रही है । राज्य में विषैले रसायनमुक्त, विशुद्ध पद्धति से उगाए गए कृषि उत्पादों की मांग है परन्तु विश्वसनीय, प्रमाणित जैविक उत्पादों हेतु विपणन केन्द्र नहीं थे। राज्य के तृतीय जैविक उत्पादन विपणन केन्द्र में जैविक विधि द्वारा उपजाई गई प्रमाणीकृत सब्जियों, दलहन, तेलहन, मसालों का विक्रय किया जायेगा। इस अवसर पर विशेष अतिथि निदेशक डीआरडीए, पूर्वी सिंहभूम सौरभ सिन्हा, मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी, ओफाज, जिला कृषि पदाधिकारी, अनुमण्डल उद्यान पदाधिकारी, अन्य पदाधिकारी, कर्मचारी एवं कृषक मौजूद रहे

 

Share.

About Author

Leave A Reply

Translate »
error: Content is protected !!