Latest news
दिव्यांगता प्रमाण पत्र के लिए उपायुक्त ने सभी प्रखंडों में तिथिवार शिविर लगाने का दिया निर्देश कांके एवं तमाड़ अंचल क्षेत्र में स्वास्थ्य उपकेंद्र निर्माण को लेकर दी गई स्वीकृति नाई समाज की ओर से अखंड हरि कीर्तन का आयोजन झारखंड के तीव्र विकास से विपक्ष‍ियों के पेट में दर्द हो रहा है : सीएम हेमंत सोरेन सरस्वती शिशु विद्या मंदिर बाघमारा में रविदास जयंती संपन्न उत्तर पूर्वी राज्यों के छात्रों ने उपायुक्त से जाना धनबाद का इतिहास मुख्यमंत्री पशुधन योजना पर जमशेदपुर में समीक्षात्मक बैठक जिला आपूर्ति पदाधिकारी ने 9 पीडीएस दुकानदारों पर किया कर्रवाई डीआरडीए निदेशक ने किया मनरेगा योजनाओं की समीक्षा बैठक झारखण्ड राज्य पत्रकार स्वास्थ्य बीमा योजना की अंतिम आवेदन तिथि 5 फरवरी

विद्या भारती झारखंड द्वारा रांची में दो दिवसीय स्वाबलंबी पूर्व छात्र सम्मेलन आयोजन

0
fastlive news

फास्टलाइव न्यूज । रांची । विद्या भारती झारखंड द्वारा रांची में आयोजित दो दिवसीय पूर्व छात्र सम्मेलन में सरस्वती शिशु विद्या मंदिर बाघमारा के दर्जनों स्वावलंबी छात्रों ने भाग लिया। सम्मेलन में मुख्य अतिथि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह कार्यवाहक डॉ कृष्ण गोपाल मौजूद थे। विद्या भारती अखिल भारतीय शिक्षा संस्थान के अखिल भारतीय मंत्री ब्रह्मा राव ने कहा कि किसी भी राष्ट्र का मूल्यांकन वहां के समाज को देखकर किया जा सकता है। उसी प्रकार विद्या भारती द्वारा संचालित सरस्वती शिशु विद्या मंदिर का मूल्यांकन यहां के वर्तमान और पूर्व छात्रों की जीवन शैली है। हमारे लिए महत्वपूर्ण विषय यह है कि हमारे विद्यालय के पूर्व-छात्र अपना व्यक्तिगत एवं परिवारिक जीवन किस प्रकार व्यतीत करते हुए समाज के अभावग्रस्त व्यक्ति को स्वावलंबी बना कर राष्ट्र की मुख्यधारा से जोड़ने में सहयोगी सिद्ध हो रहे हैं। पंचपदी शिक्षा पद्धति के आधार पर विद्यालयों में जो शिक्षा दी गई है उस शिक्षा के माध्यम से तैयार हमारे पूर्व छात्र की दृष्टि भावी पीढ़ी के लिए बड़ा ही महत्वपूर्ण है। विद्यालय समिति, पूर्व छात्र एवं प्रधानाचार्य विद्या भारती के लक्ष्य के अनुरूप मिलकर काम करेंगे तो निश्चित ही अपने भावी पीढ़ी का सर्वांगीण विकास संभव हो पाएगा तथा हम राष्ट्र को सबल एवं सुदृढ़ बनाने में सफल हो पाएंगे।

वही विद्या भारती उत्तर पूर्व क्षेत्र के क्षेत्रीय मंत्री रामअवतार नरसरिया ने कहा कि जिस प्रकार लोकतंत्र में जनता महत्वपूर्ण होती है उसी प्रकार विद्या भारती में विद्या भारती के पंचप्राण जिसमें छात्र/पूर्व छात्र, आचार्य /प्रधानाचार्य, अभिभावक, समिति सदस्य एवं समाज के शुभेच्छुक लोग है तथा उनके समन्वय से ही शिक्षा के क्षेत्र में विकास संभव है। यह पंचप्राण मिलकर भारत सरकार की राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 को प्रभावी बनाने का काम करेंगे ऐसी अपेक्षा है। सामाजिक मूल्यांकनकर्ता के रूप में मीडिया की महत्वपूर्ण भूमिका है। आज मीडिया समाज में अच्छी बातों को अधिक से अधिक प्रसारित करें तभी समाज में अच्छी बातों का प्रसार होगा तथा लोगों में जागरूकता आ पाएगी।

सरस्वती शिशु विधा मंदिर बाघमारा के सहायक सत्यजीत के साथ विधालय के पूर्व छात्र सह वर्तमान अनुमंडल अधिकारी पवन सिंह, व्यवसायी सह रक्तदानी कन्हैया कुमार, स्टील प्लांट में लोको पायलट विनय महथा, बैंक कर्मी शैलेश सिंह, माइनिंग सरदार मनोज महतो, व्यवसायी प्रशांत कुमार, गौतम गुप्ता, जितेन्द्र कुमार, गौतम रवानी, शिक्षक अतुल दुबे, शिवम सहित अन्य स्वावलंबी पूर्व छात्र शामिल हुए। कार्यक्रम में झारखंड प्रांत के सभी विद्या भारती विद्यालय के समिति सदस्य, प्रधानाचार्य और पदाधिकारी ने भाग लिया। कार्यक्रम में स्थानीय विद्यालय के प्रबंधकारिणी समिति के अध्यक्ष माधव सिंह, सचिव विनय कुमार पांडेय, प्रधानाचार्य संतोष कुमार झा, पूर्व छात्र संयोजक संजय कुमार वर्णवाल समेत धनबाद विभाग प्रमुख विवेक नयन पाण्डेय ने सहभागिता किया। इस अवसर पर मुख्य रूप से क्षेत्रीय संगठन मंत्री ख्यालीराम, प्रदेश सचिव अजय कुमार तिवारी उपस्थित थे।

Share.

About Author

Leave A Reply

Translate »
error: Content is protected !!