Latest news
दिव्यांगता प्रमाण पत्र के लिए उपायुक्त ने सभी प्रखंडों में तिथिवार शिविर लगाने का दिया निर्देश कांके एवं तमाड़ अंचल क्षेत्र में स्वास्थ्य उपकेंद्र निर्माण को लेकर दी गई स्वीकृति नाई समाज की ओर से अखंड हरि कीर्तन का आयोजन झारखंड के तीव्र विकास से विपक्ष‍ियों के पेट में दर्द हो रहा है : सीएम हेमंत सोरेन सरस्वती शिशु विद्या मंदिर बाघमारा में रविदास जयंती संपन्न उत्तर पूर्वी राज्यों के छात्रों ने उपायुक्त से जाना धनबाद का इतिहास मुख्यमंत्री पशुधन योजना पर जमशेदपुर में समीक्षात्मक बैठक जिला आपूर्ति पदाधिकारी ने 9 पीडीएस दुकानदारों पर किया कर्रवाई डीआरडीए निदेशक ने किया मनरेगा योजनाओं की समीक्षा बैठक झारखण्ड राज्य पत्रकार स्वास्थ्य बीमा योजना की अंतिम आवेदन तिथि 5 फरवरी

नानजिंग नरसंहार: जब जापानी सैनिकों ने की थी 3 लाख चीनियों की हत्या

0
fastlive news
बीजिंग। चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने शनिवार को नानजिंग नरसंहार की 77वीं बरसी पर कहा कि चीन और जापान के लोगों को द्वेष की भावना से ग्रसित नहीं होना चाहिए और इसे छोड़ देना चाहिए। पूर्वी शहर नानजिंग के एक स्मारक में आयोजित कार्यक्रम में जिनपिंग ने कहा, “इतिहास कभी भुलाया नहीं जा सकता, लेकिन भविष्य भी जरूरी है।” उन्होंने कहा कि दोनों देशों के लोग शांति चाहते हैं।
जिनपिंग ने कहा, “नानजिंग नरसंहार के पीड़ितों के लिए स्मारक बनाने का मुख्य कारण यह है कि अच्छे लोग शांति के लिए तरस रहे हैं। वह लंबे समय तक द्वेषपूर्ण नहीं रहना चाहते।” उन्होंने कहा कि चीन और जापान के लोगों को पीढ़ी दर पीढ़ी दोस्ती की भावना के साथ रहना चाहिए।

उन्होंने कहा, “इतिहास को भुलाना धोखा होगा, लेकिन एक अपराध को सहना भी अपराध को बढ़ावा देना है। हमें किसी के साथ इस वजह से नफरत नहीं करनी चाहिए, क्योंकि एक छोटी सी संख्या के लोगों ने युद्ध और आक्रमण किया।” इस दौरान करीब 10,000 लोगों ने एक मिनट का मौन रखकर मारे गए लोगों को श्रृद्धांजलि दी।

गौरतलब है कि 1937 में नानजिंग नरसंहार के दौरान जापानी सैनिकों ने लगभग 3,00,000 चीनी लोगों को मौत के घाट उतार दिया था।
Share.

About Author

Leave A Reply

Translate »
error: Content is protected !!