Latest news
दिव्यांगता प्रमाण पत्र के लिए उपायुक्त ने सभी प्रखंडों में तिथिवार शिविर लगाने का दिया निर्देश कांके एवं तमाड़ अंचल क्षेत्र में स्वास्थ्य उपकेंद्र निर्माण को लेकर दी गई स्वीकृति नाई समाज की ओर से अखंड हरि कीर्तन का आयोजन झारखंड के तीव्र विकास से विपक्ष‍ियों के पेट में दर्द हो रहा है : सीएम हेमंत सोरेन सरस्वती शिशु विद्या मंदिर बाघमारा में रविदास जयंती संपन्न उत्तर पूर्वी राज्यों के छात्रों ने उपायुक्त से जाना धनबाद का इतिहास मुख्यमंत्री पशुधन योजना पर जमशेदपुर में समीक्षात्मक बैठक जिला आपूर्ति पदाधिकारी ने 9 पीडीएस दुकानदारों पर किया कर्रवाई डीआरडीए निदेशक ने किया मनरेगा योजनाओं की समीक्षा बैठक झारखण्ड राज्य पत्रकार स्वास्थ्य बीमा योजना की अंतिम आवेदन तिथि 5 फरवरी

सौर ज्वाला के गहन अध्ययन करने में वैज्ञानिक प्रयासरत

0
fastlive news

एजेंसी : सौर ज्वालाओं की सटीक भविष्यवाणी को लेकर वैज्ञानिकों ने एक नया तरीका निकाला है। जिसको लेकर वैज्ञानिक अपने सूझ बूझ से काम लेते हुए सूरज के विभिन्न क्षेत्रों का अध्ययन कर रहे हैं। वैज्ञानिकों ने अब तक जो अध्ययन किया है उसके अनुसार अध्ययन कहा जा रहा है कि सूरज की निचली परतों (फोटोस्फीयर और क्रोमोस्फीयर) में सौर ज्वाला भड़कने वाले क्षेत्रों के ऊपर फुलझड़ियों के समान छोटे पैमाने पर चमक पैदा होती है। कहा जा रहा है कि इसी चमक के आधार पर सूरज के इस संकेत से वैज्ञानिकों को सौर ज्वाला के भड़कने की सटीक भविष्यवाणी में मदद मिलने की पूरी उम्मीद जताई जा रही है। वैज्ञानिक अगर अपने इस नया तरीका में सफल हो जाते है तो अंतरिक्ष मौसम की भविष्यवाणियों में भी कुछ नया जानकारी प्राप्त करने में सफलता हासिल कर सकते हैं।

Share.

About Author

Leave A Reply

Translate »
error: Content is protected !!